मानव शरीर के विचित्र और चकित करने वाले रहस्य !

आइये मानव शरीर के कुछ रहस्यों पर एक नज़र डालें! इनमे से बहुत सारे रहस्यों को समझने में विज्ञान को सफलता मिली है (जैसे की हम क्यों छींकते, जंभाते है या दर्द महसूस करते हैं), वहीँ मानवीय शरीर के कुछ व्यवहार हैं जिनके बारे में वैज्ञानिक भी विस्मित हैं।

1. शारीरिक दर्द (Badan Dard – Body Pain)

reasons for body pain in hindi

हम सभी को किसी न किसी वक़्त पर दर्द सहन करना पड़ा है। डॉक्टरों और वैज्ञानिको के पास, व्यक्ति से पूछने के अलावा दर्द को मापने का कोई तरीका नहीं है। सिर दर्द मैं आराम के लिए बर्फ को माथे पर लगाएं और माइग्रेन के दर्द में बर्फ के ठंडे पैक को लगाने से दर्द मैं आराम मिलता है। यह दादी नानी के घरेलू नुस्खे में से एक है। यहाँ पढ़िए 13 आसान और असरदार घरेलू नुस्खे
(Hum sabhee ko kisee na kisee vaqt par dard sahan karana pada hai. doktaron aur vaigyaaniko ke paas, vyakti se poochhane ke alaava dard ko maapane ka koee tareeka nahin hai. Sir dard main aaraam ke liye barph ko maathe par lagaen aur maigren ke dard mein barph ke thande paik ko lagaane se dard main aaraam milata hai. yah daadee naanee ka ghareloo nuskha hai. Yah daadee naanee ke ghareloo nuskhe mein se ek hai. Yahaan padhie 13 aasaan aur asaradaar ghareloo nuskhe .)

2. हकलाना (Haklana – Stuttering)

haklane ke karan in hindi

हकलाने के पीछे शारीरिकऔर भावनात्मक कारक हो सकते हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक मनोवैज्ञानिक कारणों जैसे की ईर्ष्या, असुरक्षा, या चिंता या शारीरिक कारण जैसे की सिर पर आघात द्वारा बोलने में परेशानी हो सकती है।
(Hakalaane ke peechhe shaareerikaur bhaavanaatmak kaarak ho sakate hain. Ek report ke mutaabik manovaigyaanik kaaranon jaise kee eershya, asuraksha, ya chinta ya shaareerik kaaran jaise kee sir par aaghaat dvaara bolane mein pareshaanee ho sakatee hai.)

3. हिचकी (Hichki – Hiccups)

Hiccups ke karan in hindi

जब हम बहुत तेज खाते हैं तो पेट और डायाफ्राम के बीच एक विसंगति पैदा हो सकती है। इस स्थिति को हल करने के लिए शरीर हिचकी को एक बचाव के रूप में इस्तेमाल करता है।
(Jab ham bahut tej khaate hain to pet aur daayaaphraam ke beech ek visangati paida ho sakatee hai. Is sthiti ko hal karane ke liye shareer hichakee ko ek bachaav ke roop mein istemaal karata hai.)

4. रोना (Rona – Crying)

आंखों को नम करने और भावनात्मक दर्द को दूर करने के लिए मानवीय शरीर का तरीका है। आंसूंओं मैं नमक और अन्य निस्संक्रामक (disinfectant ) पदार्थ होते हैं जो रोगाणुओं को मारने और आंखों के संक्रमण को रोकने के लिए होते हैं। जब आँसू काम नहीं करते हैं, तो आपकी आँखें सूख जाती हैं।
(Aankhon ko nam karane aur bhaavanaatmak dard ko door karane ke lie maanaveey shareer ka tareeka hai. aansoonon main namak aur any nissankraamak (disinfectant) padaarth hote hain jo rogaanuon ko maarane aur aankhon ke sankraman ko rokane ke lie hote hain. jab aansoo kaam nahin karate hain, to aapakee aankhen sookh jaatee hain.)

5. मोशन सिकनेस (Motion Sickness)

तेज़ या घुमावदार सड़को पर चलती हुई गाड़ी में हमारी दृष्टि और शरीर के बीच डिस्कनेक्ट हो सकता है, जिससे मितली और उल्टी हो सकती है। इसी प्रकार जब हम नाव या पानी के जहाज़ में होते हैं तो हिलने डुलने से चक्कर आना, पेट के संकुचन और गैस्ट्रिक के रस के स्राव सहित, जैविक परिवर्तनों की एक श्रृंखला होती है, जिससे बीमारी और उल्टी होती है। मोशन सिकनेस या मितली आने पर नींबू चूसना असरदार घरेलू इलाज़ है, जो मतली को रोकने में मदद करता है।
(Tez ya ghumaavadaar sadako par chalatee huee gaadee mein hamaaree drshti aur shareer ke beech diskanekt ho sakata hai, jisase mitalee aur ultee ho sakatee hai. Isee prakaar jab ham naav ya paanee ke jahaaz mein hote hain to hilane dulane se chakkar aana, pet ke sankuchan aur gaistrik ke ras ke sraav sahit, jaivik parivartanon kee ek shrrnkhala hotee hai, jisase beemaaree aur ultee hotee hai. Moshan sickness ya mitalee aane par neemboo choosana asaradaar ghareloo ilaaz hai, jo matalee ko rokane mein madad karata hai.

6. रोंगटे खड़े होना (Rongte khade hona – Goosebumps)

हमारा शरीर लगातार गर्मी से होम वाले नुकसान को कम करने और शारीरिक तापमान को स्थिर रखने के लिए काम करता है। सभी स्तनधारियों के शरीर के बाल सर्दियों या ठण्ड में खड़े होते हैं जो की गर्मी की एक परत बनाते हैं। लेकिन जहाँ शरीर पर ज्यादा बाल नहीं होते है हमें केवल रोंगटे या खींची हुई खाल दिखती है।
(Hamaara shareer lagaataar garmee se hom vaale nukasaan ko kam karane aur shaareerik taapamaan ko sthir rakhane ke lie kaam karata hai. Sabhee stanadhaariyon ke shareer ke baal sardiyon ya thand mein khade hote hain jo kee garmee kee ek parat banaate hain. Lekin jahaan shareer par jyaada baal nahin hote hai hamen keval rongate ya kheenchee huee khaal dikhatee hai.)

7. नींद (Neend – Sleep)

why do we sleep in hindi

अध्ययनों से पता चलता है कि नकारात्मक परिणामों के बिना चार दिनों से अधिक समय तक जागने में असंभव है। हमारी मांसपेशियों और हड्डियों को नींद के दौरान ठीक हो जाता है क्योंकि नींद एक पुनर्योजी हार्मोन का उत्पादन करती है यह हमारे भावनात्मक स्थिति को भी लाभ देता है।
(Adhyayanon se pata chalata hai ki nakaaraatmak parinaamon ke bina chaar dinon se adhik samay tak jaagane mein asambhav hai. Hamaaree maansapeshiyon aur haddiyon ko neend ke dauraan theek ho jaata hai kyonki neend ek punaryojee haarmon ka utpaadan karatee hai yah hamaare bhaavanaatmak sthiti ko bhee laabh deta hai)

8. सपने (Sapne – Dreams)

sapne kyun aate hain in hindi

हम सभी सपने देखते हैं, चाहे हम इसे याद रखें या नहीं। केवल बीमारी से संबंधित असाधारण मामलों में मनुष्य सपने की क्षमता खो देते हैं अभी भी इस घटना के लिए कोई स्पष्टीकरण नहीं है। क्या सपने देते है “मौत की चेतावनी”? जाने कुछ विचित्र और चकित कर देने वाले सपनो के मतलब
(Hum sapne kyun dekhte hai? Hum sabhee sapane dekhate hain, chaahe ham ise yaad rakhen ya nahin. Keval beemaaree se sambandhit asaadhaaran maamalon mein hum sapane dekhne kee kshamata kho dete hain. Kisi ke paas bhee iske lie koee spashteekaran nahin hai Kya sapane dete hai maut kee chetaavanee? )

9. पलक झपकना (Aankh Jhapakna – Blinking)

palke khapkaana

हम अपनी आंखों की रक्षा और देखभाल करने के लिए पलक झपकाते है। पलक झपकाके, हम अपनी आंखों को चिकना करते है और आराम देते हैं। आँखों को बिना झपकाए स्थायी रूप से खुला नहीं रखा जा सकता।
(Humm apanee aankhon kee raksha aur dekhabhaal karane ke lie palak jhapakaate hai. Palak jhapakaake, ham apanee aankhon ko chikana karte hai aur aaraam dete hain. Aankhon ko bina jhapakae sthaayee roop se khula nahin rakha ja sakata.)

10. कोमा (Coma)

reasons for coma in hindi

कोमा चेतना, तंत्रिका प्रतिक्रियाओं की हानि, और आंतरिक उत्तेजनाओं की कमी का पूर्ण अभाव है। गहरी कॉमास अनिश्चित काल के लिए कर सकते हैं और मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी के कारण होता है।
(Coma chetana, tantrika pratikriyaon kee haani, aur aantarik uttejanaon kee kamee ka poorn abhaav hai. Gehare komaas anishchit kaal ke lie kar sakate hain aur mastishk mein okseejan kee kamee ke kaaran hota hai.)

11. छींक आना (Cheenk aana – Sneezing)

छींकने से शरीर से बैक्टीरिया और वायरस बहार निकल जाते है जो की एलर्जी प्रतिक्रियाओं या संक्रमण का कारण बन सकते हैं।
( Chheenkane se shareer se bacteria aur virus bahaar nikal jaate hai jo kee elarjee pratikriyaon ya sankraman ka kaaran ban sakate hain.)

12. जंभाई लेना (Yawn)

ubaasi lena why do we yawn in hindi

जब हम जंभाते हैं, तो एक संकेत होता है की हम थके हुए हैं । इसके अलावा यह शरीर के लिए मस्तिष्क को ताज़ा करने और तंत्रिका तनाव कम करने का एक तरीका है। अक्सर, यदि कोई व्यक्ति जंभाता है, तो उसे देख कर अन्य व्यक्ति को भी जंभाई आ जाती है। इस पर भी कोई निश्चित वजह नहीं है । कुछ अनुसंधानों के अनुसार क़रीबी लोगो पर इस का असर जाता होता है।
(Jab ham jambhaate hain, to ek sanket hota hai kee ham thake hue hain . Isake alaava yah shareer ke lie mastishk ko taaza karane aur tantrika tanaav kam karane ka ek tareeka hai. Aksar, yadi koee vyakti jambhaata hai, to use dekh kar any vyakti ko bhee jambhaee aa jaatee hai. is par bhee koee nishchit vajah nahin hai . Kuchh anusandhaanon ke anusaar qareebee logo par is ka asar jaata hota hai.)

अच्छा लगा, शेयर करें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *