13 आसान और असरदार घरेलू नुस्खे

अच्छा लगा, शेयर करें :

क्या आप जानते है की जड़ी-बूटियों, मसालें और फल आदि छोटे-मोटे रोगों से लेकर संक्रमण तक अनेक बीमारियों के उपचार में प्रभावी हो सकते हैं।हर घर में दादी-नानी के आजमाये हुए नुस्खे व घरेलू उपचार उपलब्ध हैं जो आपको स्वस्थ रहने मैं मदद कर सकते है। तो जानिए कुछ ऐसे उपाए जो आप अपने घर में ही मौजूद रोज़मर्रा की चीज़ो से कर सकते है। घरेलू उपचार रसायनों का उपयोग नहीं करते हैं और आम तौर पर किसी भी प्रकार का दुष्प्रभाव नहीं करते हैं।

1.नमक (Namak – Salt)

namak gharelu nuskhe in hindi

नमक (Namak – Salt) सिर्फ भोजन का स्वाद अच्छा नहीं बनाता है। यह विभिन्न उद्देश्यों के लिए घर के चारों ओर बहुत उपयोगी होता है, जिनमें से एक पुराना जमाने वाला उपाय है जो गले में गले को शांत करता है। ‘जब आपके गले में खराश होता है तो नमक के पानी के साथ गलने से दर्द और जलन से राहत मिल सकती है’।

(namak sirf khaane ka svaad achchha nahin banaata hai. yeh vibhinn uddeshyon ke liye bahut upayogee hota hai, jinamen se ek puraana jamaane vaala upaay hai jo gale mein hone waali takleefon ko door karata hai. Jab aapake gale mein kharaash ho toh namak ke paanee ke saath garare karne se dard aur jalan se raahat mil sakatee hai)

2. अदरक (Adrak-Ginger)

adrak gharelu nuskhe ginger home remedies

अदरक में आयरन, कैल्शियम, आयोडीन, क्लो‍रीन व विटामिन सहित कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं। पेट की समस्याओं को शांत करने में मदद करने के लिए अदरक (Adrak-Ginger) के औषधीय गुणों का सैकड़ों वर्षों से इस्तेमाल किया जाता गया है। रिसर्च ने अदरक को एक प्रभावी पाचन सहायता के रूप में पाया है। गर्भावस्था के दौरान मितली को कम करने में मदद करता है।

(Adarak mein iron, calcium, iodine, chlorine aur vitaamin sahit kai poshak tatv maujood hote hain. Pet ke samasyaon ko shaant karane mein madad karane ke liye adarak (adrak-gingair) ke aushadheey gunon ka saikadon varshon se istemaal kiya jaata gaya hai. Research ne adarak ko ek prabhaavee paachan sahaayata ke roop mein paaya hai. Garbhaavastha ke dauraan mitalee ko kam karane mein madad karata hai.)

3. सौंफ (Fennel seeds – Saunf)

fennel seed saunf home remedies

सौंफ़ या गाढ़ा बीज पाचन को आसान बनाता है और पेट में बनने वाली गैस को कम करता है। रात को सोते वक्त लगभग 5 ग्राम सौंफ़ चूर्ण को हल्के गुनगने पानी के साथ सेवन कीजिए। सौंफ को चाय के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है: पांच से 10 मिनट के लिए एक कप पानी में आधा चम्मच बीज उबालें और ठंडा कर के पियें। खांसी होने पर सौंफ बहुत फायदा करता है। सौंफ के 10 ग्राम अर्क को शहद में मिलाकर लीजिए, इससे खांसी आना बंद हो जाएगा।

(Sauf ya gaadha beej paachan ko aasaan banaata hai aur pet mein banane vaale gas ko kam karata hai. Raat ko sote vakt lagabhag 5 graam saumf choorn ko halke gunagane paanee ke saath sevan keejie. Saunf ko chaay ke roop mein bhee istemaal kiya ja sakata hai: paanch se 10 minat ke lie ek cup paani mein aadha chammach beej ubaalen aur thanda kar ke piyen. Khaansee hone par saumph bahut phaayada karata hai. Saumph ke 10 graam ark ko shahad mein milaakar leejie, isase khaansee aana band ho jaega.)

4. आंवला (Amla)

नियमित तौर पर आंवला खाने से मुंह में छाले नहीं पड़ते। यह विटमिन सी का सबसे अच्छा स्रोत है। इसमें मौजूद विटमिन सी संतरे के रस की तुलना में 20 गुना अधिक पाया जाता है। छाले होने पर 1 चम्मच पिसे हुए आंवले में 1 बड़ा चम्मच शहद अच्छी तरह मिक्स कर लें। इस पेस्ट को मुंह के छाले पर लगाकर 15 मिनट के लिए छोड़ दें।

( Niyamit taur par aanvala khaane se munh mein chhaale nahin padate. Yah vitamin see ka sabase achchha srot hai. Issmey maujood vitamin see santare ke ras kee tulana mein 20 guna adhik paaya jaata hai. Chhaale hone par 1 chammach pise hue aanvale mein 1 bada chammach shahad achchhee tarah miks kar len. Iss paste ko munh ke chhaale par lagaakar 15 minat ke lie chhod den.)

5. तुलसी (Tulsi )

तुलसी को हमारे घरों में देवी का रूप माना जाता है और यह हर प्रकार से पवित्र है। इस पौधे में पाए जाने वाले औषधीय गुणों के कारण आयुर्वेद में भी तुलसी को महत्वपूर्ण माना गया है। तुलसी में बहुत शक्तिशाली रोगाणुनाशक, फंगल संबंधी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी जैविक गुण हैं जो बुखार को काम करने में सहायता करते हैं । तुलसी की पत्तियों को गर्म पानी से धोकर रोज सुबह खाएं , इस से आपके शरीर को बहुत सी बिमारियों से मुक्ति मिल जाएगी।

(Tulsi ko hamaare gharon mein devee ka roop maana jaata hai aur yah har prakaar se pavitr hai. Iss paudhe mein pae jaane vaale aushadheey gunon ke kaaran aayurved mein bhee tulasee ko mahatvapoorn maana gaya hai. Tulasee mein bahut shaktishaalee rog-naashak, fungal sambandhee, anti-bakteeriyal aur anti jaivik gun hain jo bukhaar (fever) ko kaam karane mein sahaayata karate hain. Tulsi ke pattiyon ko garm paanee se dhokar roj subah khaen, is se aapake shareer ko bahut see bimaariyon se mukti mil jaegee.)

6. शहद (Shahad – Honey)

शहद सदियों से एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में इस्तेमाल होता है। शहद खांसी के लिए प्राकृतिक उपचार है । शहद गले में चिकनाई करके खांसी के कारण होने वाली जलन और खराश को काम करने में मदद करता है। शहद और गुनगुने पानी का मिश्रण खून में हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाता है।

(Shahad sadiyon se ek mahatvapoorn aushadhi ke roop mein istemaal hota hai. Shahad khaansee ke liye praakrtik upachaar hai. Shahad gale mein chikanaee karake khaansee ke kaaran hone vaalee jalan aur kharaash ko kaam karane mein madad karata hai. Shahad aur gunagune paanee ka mishran khoon mein heemoglobin ka star badhaata hai.)

7. लैवेंडर (Lavender Essential Oils)

lavender oil essential oils india

इसकी औषधीय शक्ति शरीर को आराम करने में मदद करती है, जिससे आप आसानी से सो जाते हैं। सुगंधित लैवेंडर का तेल हृदय की दर और रक्तचाप को सामान्य रखता है।

(Isakee aushadheey shakti shareer ko aaraam karane mein madad karatee hai, jisase aap aasaanee se so jaate hain. sugandhit laivendar ka tel hriday kee gati aur raktachaap ko saamaany rakhata hai.)

8. मुसब्बर (एलो वेरा – Aloe Vera)

aloe vera home remedies in hindi

मुसब्बर (एलो वेरा) का इस्तेमाल धूप से राहत (सनस्क्रीन क्रीम) के लिए किया जाता है, लेकिन घरेलू उपचार में एलो वेरा का उपयोग जलने पर (बर्न्स) और आतंरिक सूजन को काम करने के लिए भी किया जाता है।

( Musabbar (elo vera) ka istemaal dhoop se raahat (sanaskreen kreem) ke lie kiya jaata hai, lekin ghareloo upachaar mein elo vera ka upayog jalane par (barns) aur aatanrik soojan ko kaam karane ke lie bhee kiya jaata hai.)

9. नींबू (Neembu – lemon)

lemon nimbu ke ghareloo nuskhe

नींबू बेहद फायदेमंद और गुणकारी हैं। नींबू के प्रयोग से आप न‍ सिर्फ अपना सौंदर्य निखार सकते हैं, बल्कि यह आपको फिट और स्‍वस्‍थ रखने के लिए भी लाभकारी है। मोशन से होने वाली मितली व उलटी आपके पेट को परेशान कर सकती है। नींबू पर चूसने से आपके मुंह में लार का उत्पादन कम होता है, जो मतली को रोकने में मदद करता है।

( Neemboo behad phaayademand aur gunakaaree hain. Nimbu ke prayog se aap na‍ sirph apana saundary nikhaar sakate hain, balki yah aapako phit aur s‍vas‍th rakhane ke lie bhee laabhakaaree hai. Motion se hone vaalee mitalee va ulatee aapake pet ko pareshaan kar sakatee hai. Neemboo par choosane se aapake munh mein laar ka utpaadan kam hota hai, jo matalee ko rokane mein madad karata hai.)

10. हींग (Asafoetida – Heeng)

heeng ke faayde nuskhe

भारतीय व्यंजनों में आसफोएटीडा का अपना स्थान है। यह एक उत्कृष्ट रेचक (Laxative) के रूप में भी कार्य करता है और कब्ज को रोकता है। इससे उच्च रक्तचाप कम होता है। हींग विभिन्न प्रकार की पेट की समस्याओं का इलाज करने के लिए एक अति उत्तम उपाय है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सिडेंट और एंटी-फ्लैटुलेंट गुण होते हैं जो खराब पेट, गैस, पेट के कीड़े, उदर-स्फीति (पेट फूलना) और इर्रिटेबल आंत्र सिंड्रोम (आई.बी.एस.) जैसे समस्याओं को कम करने में मदद करते हैं।

( Bhaarateey vyanjanon mein aasaphoeteeda ka apana sthaan hai. yah ek utkrsht rechak (laxativai) ke roop mein bhee kaary karata hai aur kabj ko rokata hai. Isse uchch raktachaap (high blood pressure) kam hota hai. Heeng vibhinn prakaar kee pet kee samasyaon ka ilaaj karane ke lie ek ati uttam upaay hai. Isamen anti-imphlemetaree, anti-oxident aur anti-phlaitulent gun hote hain jo kharaab pet, gais, pet ke keede, udar-spheeti (pet phoolana) aur irritebal aantr sindrom jaise samasyaon ko kam karane mein madad karate hain.)

11. कॉड लिवर ऑयल (Cod liver oil)

cod liver oil remedies

कॉड लिवर ऑयल बहुत पुराने समय से उपचार के लिए इस्तेमाल होता है। कॉड फिश से निकाले गए यह तेल ओमेगा -3 फैटी एसिड का एक समृद्ध स्रोत है। ओमेगा -3 एस आपके हृदय, मस्तिष्क और नेत्रों को स्वास्थ्य रखता है। कॉड लिवर ऑयल गठिया के दर्द और सूजन काम करने में भी सहायक होता है।

( Cod liver tel bahut puraane samay se upachaar ke lie istemaal hota hai. Cod machlee se nikaale gae yah tel omega -3 fatty acid ka ek samrddh strot hai. Omega -3 S aapake hriday, mastishk aur ankhoon ko svaasth rakhata hai. Cod livar oil gathiya ke dard aur soojan kaam karane mein bhee sahaayak hota hai.)

12. बर्फ (Ice)

barf home remedies in hindi

सिर दर्द मैं आराम के लिए बर्फ को माथे पर लगाएं और माइग्रेन के दर्द में बर्फ के ठंडे पैक को लगाने से दर्द मैं आराम मिलता है

(Sir dard main aaraam ke liye barph ko maathe par lagaen aur maigren ke dard mein barph ke thande paik ko lagaane se dard main aaraam milata hai)

13. बेकिंग सोडा (Baking soda)

baking soda home remedy

सफेद दांत के लिए बेकिंग सोडे का इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए आप बेकिंग सोडा और थोड़ा सा पानी लेकर एक पेस्ट तैयार कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे इसका बहुत ज्यादा इस्तेमाल आपके दांतों या गम ऊतक को नुकसान पहुंचा सकता है।

(Saphed daant ke lie beking sode ka istemaal kar sakate hai. isake lie aap beking soda aur thoda sa paanee lekar ek pest taiyaar kar sakate hain. Lekin dhyaan rahe isaka bahut jyaada istemaal aapake daanton ya gam ootak ko nukasaan pahuncha sakata hai.)

दादी-नानी के आसान और असरदार घरेलू नुस्खे । Dadi nani ke aasaan aur asardaar gharelu nuskhe । These are simple effective 13 home remedies in hindi for you)

अच्छा लगा, शेयर करें :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *